Search This Blog

समर्थक

Tuesday, 6 November 2012

*****माँ *****
ओ माँ तुझे सलाम ................
अपने बच्चे तुझको प्यारे 
रावण हो या राम .........

क्या आप भी इस बात से सहमत है ???????
और है तो कितना % सहमत है!

5 comments:

  1. माँ से अच्छा तो कोई नहीं. :)

    ReplyDelete
  2. वाह...!
    सुन्दर अहसास!
    पोस्ट के ऊपर शीर्षक भी लगाया कीजिए!

    ReplyDelete
  3. माता की महिमा अमिट , डाकू लीडर चोर ।


    भक्त नशेडी उद्यमी, कवि पीड़ित कमजोर ।

    कवि पीड़ित कमजोर, होय बलवान अभागा ।

    नहीं कोयल सी माय, यहाँ पर अच्छा कागा ।

    अपने बच्चे मान, पालती सबको काकी ।

    रविकर जय जय बोल, जोर से जय माता की ।।



    ReplyDelete
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    आज लिंक लिक्खाड़ पर

    450 वीं

    पोस्ट

    ReplyDelete
  5. 18/12/2012को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है ..... धन्यवाद !

    ReplyDelete

टिप्पणी के रूप में आशीर्वादस्वरूप आपके सुझावों का स्वागत है।